साबुन से कोरोना वायरस कैसे खत्म होता है-coronavirus-liquid soap and sanitizer - Ms Knowledge Hub: Helping You Informs Jobs Education.

ads by google

Saturday, May 2, 2020

साबुन से कोरोना वायरस कैसे खत्म होता है-coronavirus-liquid soap and sanitizer


साबुन से हाथ धोने पर कोरोना वायरस कैसे नष्ट हो जाता है?

कोरोना वायरस और साबुन

coronavirus-liquid soap and sanitizer
coronavirus-liquid soap and sanitizer

जैसा की आज की परिस्थिति से हम सभी अवगत है कि चीन के वुहान शहर से फैला कोरोना वायरस दुनियाभर में अपने पैर पसार चुका है। ये एक वायरस है जो Go Corona Go कहने से या देशी आडम्बों के करने से खत्म नहीं होगा। कोरोना वायरस के प्रकोप को वैश्विक महामारी(Pandemic) घोषित कर दिया गया है। 

इससे बचाव के लिए विभिन्न देशों के सरकारे विभिन्न प्रयास कर रही है। आज कल आप T.V. , मोबाईल , News, आदि में देख रहे होगें की विज्ञापन  आदि के माध्यम  से कोरोना वायरस से बचने के लिए दिशानिर्देश और कई सलाह दे रहे हैं जैसे- अपने घर में रहे, मास्क लगाये, साबुन से बार-बार 20सेकण्ड तक हाथ धोयें आदि।





इन सबके विषय में जाने से पहले हमे समझना होगा कि 

यह वायरस फैल कैसे रहा है? 

संक्रमित व्यक्ति जब भी छींकता या खांसता है तो उस व्यक्ति के थूक के बहुत ही छोटे छोटे कण होते है जो वायु में फैल जाते है। इन्ही कणों के कारण ये संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल जाते हैं।  किसी संक्रमित व्यक्ति  के बार में छिकने या थूकने पर उसके थूक से 3000 से भी अधिक कण पानी Droplets बाहर आते हैं। जो हवा के माध्यम से दूसरे स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में प्रवेश कर जाते है। साथ ही यह कण कपड़े, पम्प, बर्तनों, दरवाजे के हैंडल या आस-पास के अन्य सामानों पर चले जाते है और जब कोई स्वस्थ व्यक्ति उस स्थान को छूता है ,तो उसके शरीर में भी कोरोना के संक्रमण फैल जाते है और इन्ही हाथों से वो अपने हाथ मुँह आदि छूता या  किसी अन्य व्यक्ति से मिला है तो संक्रमण फैलने की अधिक संभावना होती है। 

साबुन वायरस पर कैसे काम करता है?

साबुन से हाथ धोने पर वायरस कैसे नष्ट हो जाता है?  यह सब साबुन के Molecular Composition में हैं। साबुन के दो हिस्से होते है  एक हिस्सा जो की पानी पंसद करना है यानी Hydrophilic और दूसरा हिस्सा जौ फैटी एसिड जिसको लिपिड(Lipid) कहते हैं, जब साबुन पानी से मिलता  है तो साबुन, पानी और फैट को अपनी और Attract करता है और  साबुन के संपर्क में आने पर फैट के Molecule टूट जाते हैं और उसका चिपचिपापन जो वायरस को एक साथ जोड़ता है वो नष्ट जो जाता है। 
उदाहरण के लिए जैसे आप अपने घरों में तेल के बर्तन आदि साफ करते है तो साबुन, पानी और तेल दोना से क्रिया करता है और स्क्रब की मदद से धुल जाता है। पंरतु जब आप केवल पानी से बर्तन साफ करते है वह तेल नही धुलता है। यही चीज हाथों के साथ भी होती है।
कैसी होती है वायरस की संरचना और साबुन इस पर कैसे असर करता हैं-

वायरस की संरचना न्यूक्लिक एसिड जीनोम , प्रोटीन, लिपिड, कोर, आदि तत्वों से मिलकर अलग-अलग होता है। इसकी वाहरी membrance में लिपिड होता है। ये लेयर वायरस को फैलने और कोशिकाओं पर Attack करने में मदद करती है। हाथ धोते वक्त साबुन Virus में Attach  हो जाता है लेकिन पानी से भी इन्डरैक्ट करना चाहता है, इस खींचतान में Virus  कि झिल्ली  (Membrane) 'टूट जाती हैं। इस तरह जब हम साबुन से हाथ धोते है तब साबुन के Molecule से डैमेज, टैप हुए और खत्म हुए सभी Microorganism भी धुल जाते हैं।

कितना समय लगता है वायरस को मरने में?

वायरस काफी स्टिकी होता है और केवल पानी से घुलने परर नहीं मरता। साबुन इसे हाथ से छुडाने या हटाने का काम करता है। वायरस कभी भी 5-10 सेकण्ड में नही मरता है। वायरस के Molecule को टुटने में कम से कम 20 सेकण्ड  लग जाते हैं। इस लिए हमें अपने हाथों को कम से कम 20 सेकण्ड तक जरूर धोना चाहिए।
यदि आप सैनीटाइज का इस्तेमाल करते है तो उसमें 60% से अधिक अल्कोहल की मात्रा होना आवश्यक है। अगर आप केवल साबुन और गर्म पानी से बी हाथ धोते है तो यह सैनीटाइजर से भी अच्छा उपाय होगा।

कोरोना वायरस से बचाव एवं सावधानियाँ-

  • किसी से घुले-मिले ना, ना ही  किसी  से हाथ मिलाए 
  • दिन में बार-बार और खाना खाने से पहले अपने हाथ को साबुन से अवश्य धोयें।
  • खांसते या छींकतें वक्त अपने मुँह को रूमाल से ढके या Tissue Paper का  इस्तेमाल करे।
  • Lockdown व Social Distancing  का पालन करे। 
  • मास्क पहने और नाक, मुहँ चेहरे को ना छुए और सरकार द्वारा बताएँ गए निर्देशों का पालन करें।

दुनिया भर में इस महामारी से लाखों लोग मर चुके है , और लाखों अभी संक्रमित है। लाखों लोगो  कि जान बचाई जा चुकी है। भारत अभी दूसरी स्टेज में है तीसरी स्टेज में आने के बाद यह वायरस आपके बिना किसी संक्रमित व्यक्ति के संर्पक में आये हुए भी हो सकता है। उस स्थिति से बचने के लिए उपरोक्त बचाव व सावधानियों पर ध्यान दे।



हमारे प्रिय पाठकों आपसे निवेदन है कि आप पोस्ट पढ़ने के बाद अपनी प्रतिक्रिया COMMENT BOX में अवश्य दें। यदि आपके मन में इसे लेकर कोई प्रश्न हो तो Comment Box में अवश्य बतायें।



जय हिंद जय भारत
लेख(Article By) -  Km. Jahanvi Chaudhary (B.sc)       
धन्यवाद।




1 comment:

Post Top Ad by google